Chanakya Niti in Hindi - चाणक्य की नीतियां एवं अनमोल विचार

Chanakya Niti in Hindi – चाणक्य की नीतियां एवं अनमोल विचार

Do you know about the Chanakya? If not  then here in this article we are going to share the biography of the Chanakya. Chanakya was the man who took the foundation of the Maurya Empire. He was the advisor of the King Chandragupta Maurya. He was also an arthsastra teacher and philosopher.

Chanakya was the intelligent man who didn’t confine his knowledge to himself but spread with other generation too. His thoughts and Niti are still motivating today’s people. So here we have collected the Best of the Chanakya Niti for the people who are searching on the Internet. Here you will the get the best one.

Peoples follow the Chanakya Thoughts and Niti to get Success in Life and also how to make people in your control. If you will follow his footsteps you will definitely success in your life. So don’t wait more and check Chanakya Mind Boggling Nities, Best words and thoughts given by Guru Chanakya.

Chanakya Niti in Hindi – चाणक्य की नीतियां एवं अनमोल विचार

Chanakya teaches the many thoughts related to the practical life some of these are here in Hindi.

एक लालची आदमी को वस्तु भेंट कर संतुष्ट करें।
एक कठोर आदमी को हाथ जोड़कर संतुष्ट करें।
एक मूर्ख को सम्मान देकर संतुष्ट करें।
एक विद्वान आदमी को सच बोलकर संतुष्ट करें।

*******************

चाणक्य कहते हैं कि मित्रता,
बराबरी वाले व्यक्तियों में ही करना ठीक रहता है।
सरकारी नौकरी सर्वोत्तम होती है
और अच्छे व्यापार के लिए व्यवहारकुशल होना आवश्यक है।
इसी तरह सुंदर व सुशील स्त्री घर में ही शोभा देती है।

*******************

शिक्षा और अध्ययन की महत्ता बताते हुए चाणक्य कहते हैं
कि मनुष्य का जन्म बहुत सौभाग्य से मिलता है,
इसलिए हमें अपने अधिकाधिक समय का वे‍दादि शास्त्रों के अध्ययन में
तथा दान जैसे अच्छे कार्यों में ही सदुपयोग करना चाहिए।

*******************

चाणक्य कहते हैं कि जिस व्यक्ति का पुत्र उसके नियंत्रण में रहता है,
जिसकी पत्नी आज्ञा के अनुसार आचरण करती है
और जो व्यक्ति अपने कमाए धन से पूरी तरह संतुष्ट रहता है।
ऐसे मनुष्य के लिए यह संसार ही स्वर्ग के समान है।

*******************

एक बेकार राज्य का राजा होने से यह बेहतर है
कि व्यक्ति किसी राज्य का राजा ना हो।
एक पापी का मित्र होने से बेहतर है
की बिना मित्र का हो।
एक मुर्ख का गुरु होने से बेहतर है कि
बिना शिष्य वाला हो।
एक बुरी पत्नी होने से बेहतर है कि
बिना पत्नी वाला हो।

*******************

 

जो मित्र आपके सामने चिकनी-चुपड़ी बातें करता हो
और पीठ पीछे आपके कार्य को बिगाड़ देता हो,
उसे त्याग देने में ही भलाई है।
चाणक्य कहते हैं कि वह उस बर्तन के समान है,
जिसके ऊपर के हिस्से में दूध लगा है
परंतु अंदर विष भरा हुआ होता है।

*******************

चाणक्य का मानना है
कि व्यक्ति को कभी अपने मन का भेद नहीं खोलना चाहिए।
उसे जो भी कार्य करना है,
उसे अपने मन में रखे और पूरी तन्मयता के साथ समय आने पर उसे पूरा करना चाहिए।

*******************

जिस प्रकार सभी पर्वतों पर मणि नहीं मिलती,
सभी हाथियों के मस्तक में मोती उत्पन्न नहीं होता,
सभी वनों में चंदन का वृक्ष नहीं होता,
उसी प्रकार सज्जन पुरुष सभी जगहों पर नहीं मिलते हैं।

*******************

इन्द्रियों को बगुले की तरह वश में करें,
यानी अपने लक्ष्य को जगह, समय और योग्यता का पूरा ध्यान रखते हुए पूर्ण करें।

*******************

If you are a hearty follower of the Chanakya then you can Download here this Chanakya Niti Video.

 

Incoming search terms:

  • achhe vichar image hd
  • चंन्वाकेय की शायरी
  • suvichar in hindi by chanakya
  • suvichar images
  • subh prabhat hindi sms
  • shubh ratri suvicharhd
  • sarkari nakri ke liye shai se mana karna ki shyari
  • chankya speech hindi grtings
  • chankya niti
  • chanakya vichar in hindi wallpaper

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *