karwa chauth vrat katha in hindi

Karwa Chauth Vrat Katha In Hindi – Vrat Rules For Unmarried And Married

Karwa Chauth Vrat Katha In Hindi – Vrat Rules For Unmarried And Married, Karwa chauth is the festival which is only celebrate in the Hindu culture. This year karwa chauth is falling on 19 Oct.

There is a story behind it and the story tells why we celebrate karwa chauth? Every Hindu festival has its own story and you can hear the story from your Grandma or through the book. Internet is the best medium through which you can read the story of every festival. Vrat katha when a women takes fast for her man, she should know what is the reality behind it. Here is the story and read this. you can also download the story we are going to mention it through the pdf. You can download Karwa chauth vrat katha hindi pdf.

Karwa Chauth Vrat Katha In Hindi

करवा चौथ का त्यौहार हिन्दू धर्म में बहुत हर्ष से मनाया जाता है ! इस दिन औरतें अपने पति के लिए व्रत रखती है और यह व्रत पति के लंबी उम्र के लिए रखा जाता है. इस व्रत के पीछे एक कहानी है जो की कुछ हज़ार साल पहले की है ! यह हिन्दू और सिख धर्म में मनाया जाता है और उत्तरी भारत में इसका अत्यधिक प्रचलन है !

Karwa chauth
Karwa chauth

एक साहूकार के साथ बेटे और 1 बेटी थी जिसका नाम करवा था ! उसके भाई उसे बहुत प्यार करते थे वो पहले अपनी बहन को कहना खिलते और फिर खुद खाते ! कुछ वक्त बात करवा की शादी हो गयी और वो एक दिन अपने मायके आयी ! वह दिन कार्तिक मास की चतुर्थी का था उस दिन करना ने अपने पति के लिए व्रत रखा था, शाम हुई उसके भाई अपने काम से घर आये और उन्होंने देखा की उसकी बहन काफी व्याकुल बैठी है. पति दूर था तो उसने निश्चय किया थे की चाँद को देख कर व्रत खोलेगी ! परन्तु चाँद नहीं आया तो फिर वो व्याकुल थी उसने अपने भाइयों से यह सब कहा उसके भाइयों ने उससे अनुरोध किया की वो कहना खा ले परंतु उसने मन कर दिया ! फिर उसके सबसे छोटे भाई ने दूर एक पेड़ पर दीपक जला दिया जो उगते हुए चाँद की तरह प्रतीत हो रहा था ! उसने उसको अर्ध्य दे कर अपना व्रत तोड़ दिया और जैसे ही उसने अपने मुह में खाने का पहला निवाला डाला उसको जोर से छींक आयी और फिर उसके पति के मरने की खबर आयी ! यह उसके गलत तरीके से व्रत तोड़ने की वजह से हुआ था ! करवा निर्णय लेती है की वो अपने पति का अंतिम संस्कार नहीं करेगी ! और वो अपने पति के पार्थिव शरीर के पास रहती है उसमे लगने वाली सुई जैसे घास को निकलती रहती है ! उसके एक साल बाद फिर वो व्रत रखती है और अपने भाभियो को कहती है की यम सूई ले लो, पिय सूई दे दो, मुझे भी अपनी जैसी सुहागिन बना दो ! उसकी कोई भी भाभी उनसे यह करने के लिए मना कर देती है परन्तु सबसे छोटी वाली भाभी जिसके पति की वजह से उसके पति की मर्त्यु हुई थी वो उनका हाथ पकड़ती है और कहती है की मेरे पति को जिन्दा करो ! काफी मानाने के बाद भाभी अपने हाथ को चिर करके उसमे से निकलने वाले तरल को उसके पति के मुह में डालती है और उसका पति जिन्दा हो जाता है ! इस दिवस को करवा चौथ के नाम से मनाया जाता है !

Vart Rules For Unmarried And Married

Vrat rules for unmarried and married women, As you know you can break your fast without offering to the moon. So after moon you have to break your fast. Only married and engaged women can take fast. unmarried girl can not take fast, below is the timing and you should follow the rules.

Puja timing (पूजा समय) : 5:43 PM and 6:59 PM.
Chandroday (चंद्रोदय) : 8:51 PM

 

Incoming search terms:

  • karva chauth vrat vidhi for unmarried in hindi
  • karva chauth vrat vidhi for unmarried
  • karva chauth rituals for unmarried
  • karva chauth vrat vidhi for unmarried hindi
  • desh bhakti photos
  • kuvari ladki karva chauth ka vrat q rakhti h
  • krwachot katha sunne ka tme and unmarried ke liy suvidha
  • kya unmarried girls krr sakti hai krwa choth
  • kya unmarried girls k stn se afed rng ka paniii niklta h
  • krba chauth for unmarried girl2016 in hindi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *